आंगनबाड़ी केंद्रों पर पंजीरी के बजाय पैकिंग फूड

 चार माह बाद शुरू हुआ पोषाहार वितरण, जल्द मिलेगा मिडडे-मील

जागरण संवाददाता, इटावा : आंगनबाड़ी केंद्रों पर बीते माह जनवरी से पोषाहार के रूप मिलने वाली पंजीरी व अन्य सामग्री शिकायतों के चलते बंद कर दी गई थी। गरीब वर्ग में हीनता का भाव समाप्त कराने तथा पौष्टिक पदार्थों से भरपूर गुणवत्ता पैकिंग फूड की आपूर्ति शुरू करा दी है। जल्द ही केंद्रों पर नियमित आने वाले बच्चों को मिडडे-मील भी मिलने लगेगा।1जनपद में 1564 आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से गरीब वर्ग के 1 लाख 68 हजार 752 बच्चे, 1833 गर्भवती, 17 हजार 448 धात्री तथा 1071 किशोरियां पोषाहार पाकर पाते हैं। प्रदेश में योगी सरकार बनने पर इन केंद्रों पर वितरित की जाने वाली पंजीरी को गुणवत्ता हीन होने की शिकायतें हुईं थीं, जांच कराए जाने पर हकीकत प्रकट हो गई थी। इससे बीते माह जनवरी तक पंजीरी की आपूर्ति हो जाने से फरवरी माह से पंजीरी व अन्य सामग्री का वितरण बंद हो गया था।

सरकार ने गरीब वर्ग के इन लोगों की ओर विशेष ध्यान देते हुए रेडीमेड लड्डू और मीठा तथा नमकीन दलिया पोषाहार पैकिंग के रूप में देना शुरू करा दिया है। केंद्रों पर आने वाले बच्चों को यह पोषाहार गर्म पानी करके उसमें मिलाकर दिया जाएगा। जबकि घर पर रहकर पोषाहार पाने वाले को घर पर तैयार करना पड़ेगा।1 इस व्यवस्था से आंगनबाड़ी केंद्रों के बच्चे गुणवत्ता युक्त पोषाहार मिलने लगा है। विवादों के घेरे में रहने वाली पंजीरी व अन्य गुणवत्ता से परे पोषाहार से मुक्ति मिल गई है।

पैकिंग फूड का स्वाद अच्छा होने से पसंद भी किया जा रहा है।

मिड-डे-मील भी पाएंगे बच्चे1आंगनबाड़ी केंद्रों पर निकट भविष्य बच्चों को मिड-डे-मील के मीनू के मुताबिक भोज्य पदार्थ जल्द ही मिलने लगेंगे। प्रदेश सरकार ने इस ओर विशेष ध्यान देते हुए गरीब वर्ग के बच्चों को कुपोषण से मुक्त तथा स्वस्थ रखने के लिए खान-पान विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इसके लिए शहर में सभासद तथा ग्रामीण क्षेत्र में प्रधान के साथ आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का संयुक्त बैंक खाता खुलवाने का कार्य तेजी से कराया जा रहा है।

गुणवक्ता युक्त फूड का वितरण

आंगनबाड़ी केंद्रों पर गुणवत्ता युक्त पैकिंग फूड उपलब्ध कराया जाना लगा है। शहर और ग्रामीण क्षेत्र से इसके अच्छे परिणाम आ रहे हैं। अधिकांश इसका प्रयोग करके स्वादिष्ट बता रहे हैं। निकट भविष्य में मिड-डे-मील की भांति बच्चों को भोज्य पदार्थ भी प्रदान किए जाएंगे।

विनीता चंद्रा प्रभारी जिला कार्यक्रम अधिकारी

आंगनबाड़ी केंद्रों पर पंजीरी के बजाय पैकिंग फूड

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget