बेहाल शिक्षा:- बिना ¨प्रसिपल के ही चल रहे पांचों जीआइसी

बेहाल शिक्षा:- बिना ¨प्रसिपल के ही चल रहे पांचों जीआइसी


राजकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में शिक्षकों की कमी अधर में है इन विद्यालयों में पढ़ रहे बच्चों का भविष्य


जासं, कौशांबी : यूपी बोर्ड के विद्यालयों में शिक्षकों की भारी कमी है। खासकर राजकीय विद्यालयों में जहां जिले में पांच जीआइसी है लेकिन इनमें किसी में भी ¨प्रसिपल नहीं है। प्रभारी ¨प्रसिपल के भरोसे यह स्कूल चल रहे हैं। ऐसे ही राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में भी शिक्षक कम हैं। इसलिए इन विद्यालयों में पढ़ रहे बच्चों का भविष्य अधर में है। प्रदेश सरकार की ओर से इन स्कूलों में शिक्षकों की तैनाती नहीं की जा रही है।

छात्रों को बेहतर शिक्षा मिल सके। इसके लिए सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में पांच राजकीय इंटर कालेज और राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की स्थापना की हैं। इन विद्यालयों को बनवाने में करोड़ों रुपये खर्च हुए हैं। विद्यालयों को जिन उद्देश्य के साथ खोला गया था, शिक्षकों की कमी के चलते वह उद्देश्य पूरा नहीं हो रहा है। हर विद्यालय में शिक्षकों की भारी कमी है। हालत यह है कि पांचों जीआइसी में ¨प्रसिपल ही नहीं हैं। वहीं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में सिर्फ चार में ही ¨प्रसिपल हैं। बाकी अन्य प्रभारी के भरोसे चल रहे हैं। वहीं शिक्षकों के पद आधे से ज्यादा खाली हैं। ऐसे में इन विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र-छात्रओं की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय से हर माह इसको लेकर माध्यमिक शिक्षा परिषद को जानकारी दी जाती है। इसके बाद भी शिक्षकों की काम को पूरा नहीं किया जा रहा है। विभाग की ओर से रिटायर शिक्षकों को भर्ती करने का प्रयास किया गया। यह प्रक्रिया भी अभी लंबित है। मार्च से नया शैक्षिक सत्र का शुरू हो गया है। अब तक करीब एक चौथाई कोर्स समाप्त हो जाना चाहिए था, लेकिन बिना शिक्षकों के पढ़ाई बाधित हो रही है। डीआएओएस सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि शिक्षकों की कमी को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। परिषद इस कमी को दूर करने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है।

हर माह इसको लेकर माध्यमिक शिक्षा परिषद को दी जाती है जानकारी

विभाग में रिटायर शिक्षकों को भर्ती करने की प्रक्रिया भी लंबितउच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में में ही सिर्फ ¨प्रसिपलजीआइसी बनवाने में आई थी करोड़ों की लागतराजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हुए स्थापनामार्च से शुरू हो गया है नया शैक्षिक सत्रजिला विद्यालय निरिक्षक कार्यालय


बेहाल शिक्षा:- बिना ¨प्रसिपल के ही चल रहे पांचों जीआइसी



Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget