हैंडपंप न शौचालय, घर भाग रहे बच्चे, हो रहा है बच्चों के भविषय से खिलवाड़

हैंडपंप न शौचालय, घर भाग रहे बच्चे

प्राथमिक विद्यालय सैदूपुर का बदहाल शौचालय और भरखनी प्राथमिक विद्यालय में अभी भी खराब पड़ा हैंडपंप

परिषदीय विद्यालयों में हैंडपंप और शौचालयों की दशा खराब, सुरक्षा पर लग रहा सवालिया निशान

बच्चों की सेहत और सुरक्षा से बड़ा खिलवाड़

भरखनी विकास खंड मुख्यालय के प्राथमिक विद्यालय भरखनी के पास तालाब में डूबने से तीन बच्चों की मौत हो गई थी। विद्यालय का हैंडपंप खराब था, इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी जिम्मेदार अभी नहीं चेते और अभी भी हैंडपंप खराब ही पड़ा है और बच्चों को पानी पीने के लिए इधर उधर भागना पड़ता है।1प्राथमिक विद्यालय सैदूपुर का शौचालय जर्जर है और तो और पल्ले तक नहीं है। आज से नहीं पिछले काफी दिनों से यही दशा है। बच्चों को शौच जाने के लिए घर भागना पड़ता है। अध्यापक भी परेशान रहते हैं। कई बार शिकायत भी की गई पर किसी ने ध्यान नहीं दिया और स्थिति अभी भी बदहाल है।

जागरण संवाददाता, हरदोई: परिषदीय विद्यालयों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर दावे तो बहुत हो रहे हैं लेकिन हकीकत उनकी पोल खोल रही है। विद्यालयों में हैंडपंप खराब रहने व शौचालय की दशा ठीक न होने के कारण बच्चे घर भाग जाते हैं। खबर में शामिल दो विद्यालय तो महज समझाने के लिए हैं। जिले में सैकड़ों विद्यालयों की यही दशा है।1बच्चों की सुरक्षा को लेकर शासन स्तर से तमाम आदेश जारी होते रहते हैं। विद्यालय भवन कोड से लेकर अन्य न जाने क्या क्या आदेश होते हैं लेकिन उन पर अमल नहीं होता है। मूलभूत सुविधा के रूप में शुद्ध पेयजल के लिए हैंडपंप और शौचालय तक का इंतजाम नहीं है। विद्यालयों में कोई इंतजाम न होने से बच्चों को बाहर भागना पड़ता है, जिससे कि उनके ऊपर खतरा रहता है। जिले के अधिकांश विद्यालयों में यही दशा है और निरीक्षण को जाने वाले अधिकारियों को कुछ नहीं दिखता है। अध्यापकों का ही नहीं अभिभावकों का कहना है कि विद्यालयों से बच्चों को घर भागना पड़ता है। सड़क किनारे स्थित विद्यालयों से लेकर अन्य विद्यालयों में भी बच्चों को खतरा रहता है लेकिन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। देखा जाए तो सूत्रों का कहना है कि पांच सौ से अधिक हैंडपंप और इतने ही अधिक शौचालयों की यही दशा है। अब बच्चे घरों की तरफ जाते हैं और उनके साथ कोई भी अनहोनी हो सकती है पर इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

अधिकारी बोले : प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी आरपी त्रिपाठी ने बताया कि बच्चों की सुरक्षा में कोई लापरवाही नहीं होने दी जाएगी। हैंडपंप और खराब शौचालयों की जानकारी मांगी गई है। हर बच्चे को उसका हक मिलेगा और विद्यालयों को सुरक्षा के मानकों का पालन करना होगा।जागरण संवाददाता, हरदोई : नगर के प्राथमिक विद्यालय हंिदूी पाठशाला प्रांगण के बीच से निकले नाले के पत्थर हटा कर निकाली गई सिल्ट विद्यालय परिसर में ही छोड़ दी गई और नाले को भी नहीं ढका गया। पिछले कई दिन से सड़ांध से बच्चे परेशान हो गए। हद तो यह हो गई कि शुक्रवार को कई बच्चे तो नाले में गिरते-गिरते बचे। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि नाला ढकवा कर सिल्ट हटवा दी जाएगी, लेकिन कोई हादसा हो जाता तो इसका जिम्मेदार कौन होता।

हरदोई नगर में नगर पालिका की तरफ से नालों की सफाई कराई जा रही है। महाराज सिंह पार्क के पास स्थित हंिदूी पाठशाला परिसर के बीच से बड़ा नाला निकला है। हालांकि नाले पर पत्थर पड़े हुए हैं। अब सफाई अभियान में कुछ दिन पूर्व पत्थर हटाकर सिल्ट विद्यालय परिसर में डाल दी गई, काफी सिल्ट तो बरामदे के बाहर पड़ी है। प्रधानाध्यापिका का कहना है कि उन्होंने उसी दिन कम से कम पत्थर ढक देने की बात कही थी, लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। बदबू से बच्चे परेशान हैं और खाना तक नहीं खा पाते। वहीं बताते हैं कि शुक्रवार को खेल रहे बच्चों में कोई बच्चा नाले में गिरते-गिरते बचा। खबर मिलने पर कुछ लोग भी वहां पहुंच गए। शिकायत अधिकारियों तक पहुंची। अपर जिलाधिकारी विमल कुमार अग्रवाल ने बताया कि नाले के खुला होने और विद्यालय परिसर में सिल्ट पड़ी होने की जानकारी मिली है। उन्होंने ईओ को पत्र लिखा है। सिल्ट हटवाकर नाला ढकवा दिया जाएगा।


 हैंडपंप न शौचालय, घर भाग रहे बच्चे, हो रहा है बच्चों के भविषय से खिलवाड़

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget