हाल बेहाल: परिषदीय विद्यालयों का ये हाल तो देश कैसे करेगा विकाश

स्कूल परिसरों में जलभराव, कैसे हो पढ़ाई

जल निकासी का इंतजाम नहीं होने से दर्जनों स्कूलों में भरा पानी, पठन-पाठन में हो रही है खासी परेशानी


जासं, कौशांबी : जिले के दो सौ से अधिक परिषदीय विद्यालयों का परिसर सड़क से काफी नीचे है। इन विद्यालयों के परिसर के पानी को निकालने के लिए इंतजाम नहीं किया गया। इसकी वजह से चायल व कौशांबी क्षेत्र के तीन दर्जन से अधिक विद्यालयों पानी भरा हुआ है। इससे स्कूल की कक्षाओं तक पहुंचने में शिक्षकों व बच्चों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

जनपद के परिषदीय विद्यालयों के सुंदरीकरण के लिए भले ही पंचायतीराज विभाग की ओर से विशेष अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन यह अभियान हकीकत से परे है। हल्की सी बारिश में जनपद के स्कूल परिसर में जलभराव हो गया है।

इसमें नेवादा बीआरसी क्षेत्र का पूर्व माध्यमिक विद्यालय तिल्हापुर, प्राथमिक विद्यालय म्योहरिया, प्राथमिक विद्यालय नौहाई आदि शामिल हैं। स्कूल परिसर में पानी होने की वजह से कुछ बच्चे गिरकर चुटहिल भी हो रहे हैं। इसकी शिकायत अभिभावकों ने ग्राम प्रधान व प्रधानाध्यापक से की गई थी। इसके बाद भी विद्यालय परिसर से जल निकासी का इंतजाम नहीं किया गया।हाल बेहाल : यह नजारा शनिवार को नेवादा ब्लाक के तिल्हापुर गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में देखने को मिला जहां विद्यालय परिसर में इस तरह से मिट्टी डाली गयी जिसकी वजह से पानी भर गया। ऐसे में छात्र-छात्रओं का पढ़ना तो दूर यहां से बिना गिरे आना-जाना भी नामुमकिन है।


हाल बेहाल: परिषदीय विद्यालयों का ये हाल तो देश कैसे करेगा विकाश

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget