पढ़ाई में रुचि नहीं ले रहे हैं शिक्षक, विद्यालय मे कम हो रही बच्चों की उपस्थिती

 विद्यालय मे कम हो रही बच्चों की उपस्थिती 

निर्धारित समय पर नहीं खुलते अधिकतर स्कूल, पढ़ाई में रुचि नहीं ले रहे हैं शिक्षक

बसुहार विद्यालय में विधायक ने बांटी यूनिफार्म व किताबें



जागरण टीम, कौशांबी : जनपद के परिषदीय विद्यालयों से नौनिहालों को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा मिले। इसके मद्देनजर जिला प्रशासन व शिक्षा विभाग के अधिकारी भले ही प्रयासरत हैं, लेकिन कुछ शिक्षकों की उदासीनता के चलते विद्यालय खुलने के दिन बाद भी स्कूलों में पठन-पाठन का सही माहौल नहीं बना। इससे विद्यालयों में पंजीकृत छात्र व छात्रओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं मिल पा रही है। साथ ही शासन की मंशा पर पानी भी फिर रहा है।

परिषदीय विद्यालयों के खुलने के समय सुबह आठ बजे निर्धारित किया है। इसके बाद भी जिले के अधिकतर स्कूल समय से नहीं खुलते हैं और ही समय से पढ़ाई शुरू होती है। कुछ स्कूलों में एमडीएम नहीं बनता है। इससे बच्चों को भूखे पेट पढ़ाई करना पड़ रहा है। इसकी शिकायत अभिभावक प्रधान व प्रधानाध्यापक से करते हैं। इसके बाद भी व्यवस्था में सुधार नहीं हो पा रहा है, जिसकी वजह से स्कूलों में पंजीकृत छात्र व छात्रओं को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

समय से पहले ही बंद हुए स्कूल : स्कूलों में पठन-पाठन की व्यवस्था की पड़ताल करने के लिए जागरण टीम शुक्रवार की दोपहर :40 बीआरसी नेवादा के प्राथमिक विद्यालय बरेठी पहुंची तो स्कूल बंदकर दिया है। बच्चे घर जा रहे थे। प्रधानाध्यापक रमाशंकर गुप्ता, सहायक अध्यापक सुनयना सिंह, अनुज कनौजिया, निहारिका, शिक्षामित्र सुलेह अहमद व ममता देवी की तैनाती की गई है। यह भी स्कूल में नहीं थे।

गंदगी के बीच बच्चे करते हैं भोजन : पूर्व माध्यमिक विद्यालय आलमपुर की चहारदीवारी टूट गई है। विद्यालय परिसर में गंदगी के बीच बैठकर छात्र व छात्रओं को दोपहर का भोजन करना पड़ता है। ग्राम प्रधान ने सफाई नहीं कराई। प्रधानाध्यापक अवधनारायण, सहायक अध्यापिका मीनाक्षी शर्मा, कमलेश देवी की तैनाती है। कमलेश देवी स्कूल में नहीं थी। सुबह नौ बजे टीचर स्टाप मोबाइल में व्यस्त थे। बच्चे फील्ड में खेल रहे थे।चायल तहसील के बरेठी गांव के प्राथमिक विद्यालय में पढ़ाई करने के समय में खेल रहे हैं बच्चेजासं, कौशांबी : चायल विधायक ने शुक्रवार को नेवादा ब्लाक के बसुहार प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों के बीच यूनिफार्म का वितरण किया। इस दौरान उन्होंने उनकी शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर भी कई सवाल पूछे। छात्रों ने सही जवाब दिया तो वह गदगद हो गए। उन्होंने छात्रों को बेहतर शिक्षा के लिए हर कदम पर साथ देने का आश्वासन दिया। विधायक संजय गुप्ता ने कहा कि हर छात्र को बेहतर शिक्षा मिल सके। इसके लिए सरकार उनको वह सारी सुविधा दे रही है जो एक कानवेंट विद्यालय के छात्रों को मिलती है।

सरकार की मंशा है कि हमारे प्रदेश का हर बच्चा बढ़े और आगे बढ़े इसके लिए बेहतर शिक्षकों के साथ ही गुणवत्ता पूर्ण एमडीएम, किताबें व यूनिफार्म का निश्शुल्क वितरण हो रहा है। एबीएसए मंझनपुर अविनाश सिंह ने कहा कि बेहतर शिक्षा के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्र के लोग भी अब शिक्षा को लेकर जागरूक हो रहे हैं। विद्यालय की ओर से भी गांव में सब को शिक्षा मिले। इसके लिए जागरूकता अभियान चलाया गया था। इसके भी बेहतर परिणाम मिले। कार्यक्रम में प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय के 180 छात्रों को यूनिफार्म वितरित की गई। साथ ही नव प्रवेशी 40 छात्रों को बैग का वितरण किया गया।स्कूल में बिजली आपूर्ति नहीं होने से हो रही है परेशानी

प्रथमिक विद्यालय आलमपुर में लगाया गए विद्युत उपकरण नहीं चल रहे है, जिसकी वजह शिक्षकों व विद्यार्थियों को परेशानी हो रही है। स्कूल में 90 में पंजीयन 56 बच्चे मौजूद रहे। पीने के पानी के लिए बच्चों व शिक्षकों को जाना पड़ता है। शिकायत के बाद भी बिगड़े हुए हैंडपंपों को नहीं बनवाया गया। इससे विद्यार्थियों को पानी के लिए दूर जाना पड़ता है।विद्यालयों में छात्र व छात्रओं को नहीं मिल पा रही गुणवत्तापूर्ण शिक्षा

एमडीएम नहीं बनने से बच्चों को करनी पड़ रही है भूखे पेट पढ़ाईबजे सुबह परिषदीय स्कूलों के खुलने का समय तयदिन बाद भी पठन-पाठन का नहीं बना माहौलनेवादा का प्राथमिक विद्यालय बरेठी बंद मिला

पढ़ाई में रुचि नहीं ले रहे हैं शिक्षक, विद्यालय मे कम हो रही बच्चों की उपस्थिती

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget