हो रहा है नौनिहालों की ज़िंदगी से खिलवाड़, कन्या पाठशाला का जर्जर भवन दे रहा दुर्घटना को दावत

कन्या पाठशाला का जर्जर भवन दे रहा दुर्घटना को दावत

जासं, बरहनी (चंदौली): स्थानीय कस्बा में स्थित कन्या पाठशाला दुर्घटना को दावत दे रहा है। जर्जर भवन कब गिर जाए कहना मुश्किल है। अभिभावकों ने कई बार सक्षम अधिकारियों से गुहार लगाई पर समस्या को अनसुना कर दिया गया।1बेटियों की शिक्षा को ढाई दशक पूर्व बरहनी में सैयदराजा जामानिया मार्ग के पूरब कन्या पाठशाला बनवाया गया। भवन में चार कमरे और बरामदा बनाया गया। कुछ वर्षों तक शिक्षण कार्य चला पर जब प्राथमिक विद्यालय बन गया तो भवन निष्प्रयोज्य हो गया। बच्चे प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने लगे।

आगे चलकर भवन के पास ही आंगनबाड़ी केंद्र भी बन गया। लेकिन पुराने भवन की ओर न तो जनप्रतिनिधियों की नजर गई और न ही विभागीय अधिकारियों की। ऐसे में रख रखाव और मरम्मत के अभाव में भवन खंडहर में तब्दील हो गया। भवन कब गिर जाए कहना मुश्किल है। जर्जर भवन के कारण शिक्षकों व अविभावकों को बच्चों के घायल होने का डर बना रहता है। ग्रामीण बाबूलाल, संजय सिंह अंजनी सिंह, सतीश कुमार, अमीत कुमार, संतोष, अजय वर्मा, भोला भगवान आदि ने विभागीय उच्चाधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराते हुए भवन को जमींदोज कराने की मांग की है।

हो रहा है नौनिहालों की ज़िंदगी से खिलवाड़, कन्या पाठशाला का जर्जर भवन दे रहा दुर्घटना को दावत

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget