महिला शिक्षामित्रों संग 513 ने कराया मुंडन

महिला शिक्षामित्रों संग 513 ने कराया मुंडन
mahila shikshamitron sang 513 ne karaya mundan

ईको गार्डन में प्रदर्शन के 67वें दिन मांगें पूरी न होने पर विरोध स्वरूप मनाया श्रद्ध


लखनऊ : ईको गार्डन में पिछले करीब 67 दिनों से अपनी पांच सूत्री मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे शिक्षामित्रों ने बुधवार को विरोध स्वरूप श्रद्ध मनाया। राज्य सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए शिक्षामित्र उमा देवी, सरोज, संगीता व सुमन ने मुंडन कराकर श्रद्ध आरंभ किया। इसके बाद एक-एक करके 63 महिला और 450 पुरुष शिक्षामित्रों ने अपना मुंडन कराया और तर्पण भी दिया। इस तरह शाम तक कुल 513 शिक्षामित्रों ने अपने सिर मुड़वाए। शिक्षामित्र समान कार्य समान वेतन और समायोजन की मांग कर रहे हैं।

आम शिक्षक शिक्षामित्र एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के आह्वान पर प्रदेशभर से सैकड़ों की संख्या में शिक्षामित्र बीती 18 मई से लगातार ईको गार्डेन स्थित धरना स्थल पर प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही। अध्यक्ष उमादेवी ने कहा कि उत्तराखंड, बिहार, राजस्थान जैसे कई राज्यों में शिक्षामित्रों को समान कार्य समान वेतन दिया जा रहा है। उपाध्यक्ष संतोष दुबे ने बताया कि शिक्षामित्रों की पहली मांग है कि कुल 1.74 लाख शिक्षामित्रों में से 1.24 लाख शिक्षामित्रों को पैरा टीचर के तौर पर बीटीसी का प्रशिक्षण करवाया गया था, इन्हें प्राइमरी स्कूलों में टीचर बनाया जाए। यह सब 2009 से पहले के भर्ती शिक्षामित्र हैं। दूसरी मांग यह है कि आरटीई एक्ट के कारण जो शिक्षामित्र समायोजित नहीं हो सकते उन्हें चार वर्ष में शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करने की छूट दी जाए, क्योंकि उत्तराखंड में यह व्यवस्था की गई है।

mahila shikshamitron sang 513 ne karaya mundan



shikshamitra shiksha mitra app download m shiksha mitra app download shiksha mitra website shikshamitra news today shikshamitra today news m shiksha mitra up shikshamitra news in hindi shiksha mitra hindi news shikshamitra news in hindi

तीसरी मांग यह कि जो शिक्षामित्र टीईटी पास हैं उनको बिना लिखित परीक्षा के उम्र और अनुभव का भारांक देकर नियमित किया जाए। चौथी मांग यह कि असमायोजित शिक्षामित्रों को बिहार की तर्ज पर समान कार्य समान वेतन दिया जाए। यानी शिक्षामित्रों को 38878 रुपये वेतन दिया जाए न कि केवल 10000 रुपये। पांचवी मांग यह कि अभी तक मृतक 708 शिक्षामित्रों के परिवार को उचित मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाए। मुंडन कराने के लिए कोई हेयर ड्रेसर नहीं बुलाया गया। शिक्षामित्रों में ही अमरेंद्र, रवीन्द्र और प्रदीप आदि ने एक-दूसरे का मुंडन किया।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget