नहीं बढ़ी छात्रों की संख्या तो रुकेगा वेतन

एडेड स्कूलों में नहीं बढ़ी छात्रों की संख्या तो रुकेगा वेतन

जिला विद्यालय निरीक्षक ने जारी किये निर्देश

लखनऊ (एसएनबी)। राजधानी के जिन एडेड माध्यमिक विद्यालयों में छात्रों की संख्या वेहद कम है, उन विद्यालयों को एक माह का समय दिया गया है। यदि अगले माह विद्यार्थियों की संख्या में बढ़ोत्तरी नहीं हुई तो ऐसे विद्यालयों का वेतन रोक दिया जाएगा। ज्ञात हो गत दिनों इंडस्ट्रियल इण्टर कालेज का औचक निरीक्षण किया गया था। यहां कक्षा एक से आठ तक पंजीकृत 45 बच्चों में से सिर्फ 18 विद्यार्थी ही मौके पर मिले थे, जबकि यहां पढ़ाने के लिए 24 शिक्षक तैनात हैं। प्रधानाचार्य के साथ-साथ शिीकों व कर्मचारियों के वेतन पर यहां हर महीने 17 लाख रपए से अधिक खर्च हो रहे हैं। इसके बावजूद विद्यालय प्रशासन छात्रों की संख्या बढ़ाने में कोई रुचि नहीं दिखा रहा है।

कुछ इसी तरह का हाल लखनऊ इण्टरमीडिएट कालेज का भी है। यहां भी निरीक्षण के दौरान मात्र तीन विद्यार्थी ही मौके पर मिले। इस पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने नाराजगी भी जतायी। यही नहीं लालबाग स्थित एक अन्य विद्यालय में भी मौके पर मात्र 23 विद्यार्थी ही मिले, जबकि यहां शिक्षकों की संख्या काफी अधिक है। इसके अतिरिक्त चौक स्थित श्रिदिगम्बर जैन इण्टर कालेज में यू डायस पर उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार 21 बच्चे पंजीकृत हैं, लेकिन गत दिनों हुए निरीक्षण के दौरान कक्षा एक से बारह तक में मात्र सात विद्यार्थी ही उपस्थित मिले, जबकि उन्हें पढ़ाने के लिए छह शिक्षक उपस्थित थे। इसी प्रकार यू डायस पर उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार बिशन नरायण इण्टर कालेज में भी 15 से 20 बच्चे पढ़ते हैं। इस विद्यालय में दस से अधिक शिक्षक होने के बात कही जा रही है। इन सभी पर लाखों रपए वेतन के रूप में खर्च हो रहे हैं। इस संबंध में जिला विद्यालय निरीक्षक डा. मुकेश कुमार सिंह ने संबंधित विद्यालयों को व्यवस्था सुधारने तथा छात्र संख्या बढ़ाने के लिए निर्देश जारी किए हैं।


नहीं बढ़ी छात्रों की संख्या तो रुकेगा वेतन

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget