स्कूल चलो अभियान पर करोड़ों खर्च भी बेकार

जासं, आजमगढ़ : सर्व शिक्षा अभियान के तहत सरकार हर साल करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा रही है, लेकिन यह राशि हकीकत में भी पानी में बह रही है और इस साल भी बेसिक शिक्षा विभाग का स्कूल चलो अभियान 6 से 14 वर्ष के बच्चों को शिक्षा से जोड़ने में नाकाम रहा है। अभियान के दौरान सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ाने के बजाय गत वर्ष की तुलना में अभी तक घट गए हैं। यानी नामांकन बढ़ने के बजाय घटे हैं। वैसे विभाग का दावा है कि सितंबर तक यह प्रक्रिया चलती है और लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा।

बताते चलें कि जनपद में कुल प्राथमिक विद्यालयों की संख्या 2267 है। जूनियर विद्यालयों की संख्या 983 के करीब है। सभी विद्यालयों में अब तक तीन लाख 89 हजार बच्चों का नामांकन हो चुका है। पिछले वर्ष इससे अधिक नामांकन हुआ था। दो जुलाई को सभी प्राथमिक व जूनियर विद्यालय खुल चुके हैं। अभी विद्यालय में बच्चे भी कम आ रहे हैं और नामांकन भी कम हो रहा है। स्कूल चलो अभियान के प्रथम सत्र की रैली अप्रैल में निकल चुकी है। अब दूसरे सत्र की रैली दो जुलाई से निकाली जा रही है। यह सभी परिषदीय विद्यालयों में निकाली जा रही है। ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों का सच देखा जाय तो छात्रों की उपस्थिति बहुत कम है। कई तो ऐसे हैं जहां नाममात्र के छात्र आ रहे हैं और यहां काफी संख्या में शिक्षकों की तैनाती की गई है। पढ़ाई के नाम पर यहां कुछ भी नहीं हो रहा है। स्कूल चलो अभियान की रैली की बात रही तो कुछ विद्यालयों को छोड़ दिया जाय तो तमाम विद्यालयों में केवल कागजों पर रैलियां निकालकर अभियान को सफल बनाया जा रहा है। शिक्षा व्यवस्था के गुणवत्ताहीन होने से अभिभावक अपने बच्चों को कान्वेंट स्कूल में डाल रहे हैं। हां, यह जरूर है कि जनपद में 140 इंग्लिश माध्यम के स्कूलों में नामांकन बढ़ा है लेकिन हिन्दी माध्यम विद्यालयों में स्थिति संतोषजनक नहीं है।

शिक्षा व्यवस्था का सच

सितंबर तक नामांकन पूरा कर लेने का विभाग का दावा

आए दिन निकल रही स्कूल चलो अभियान के तहत रैली

करोड़ों खर्च करने के बाद भी नहीं सुधर रही स्थितिसभी विद्यालयों को स्कूल चलो अभियान की रैली निकालकर अधिक से अधिक नामांकन करने के लिए निर्देशित कर दिया गया है। अभी भी काफी बच्चे आउट ऑफ स्कूल हैं। ऐसे बच्चों को विद्यालयों में प्रवेश दिलाकर शिक्षा की मुख्यधारा में जोड़ा जा रहा है।

1-देवेंद्र कुमार पांडेय : बेसिक शिक्षा अधिकारी ।

स्कूल चलो अभियान पर करोड़ों खर्च भी बेकार

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget