बेहाल शिक्षा:- स्कूल में पढ़ाई नहीं, खेल रहे जुआ

Basic Shiksha Latest News, School me Padhai nahi Khel Rahe Juaa
बेहाल शिक्षा:- स्कूल में पढ़ाई नहीं, खेल रहे जुआ

प्राथमिक विद्यालय के एक कमरे में संचालित विद्यालय में सिर्फ अव्यवस्था

संसू, कसेंदा : जिले में राजकीय विद्यालयों की दशा खराब है। इन स्कूलों की शिक्षकों की संख्या बहुत कम है। ऐसे में इन स्कूलों में अभिभावक बच्चों के नाम भी कम ही लिखवा रहे हैं। नेवादा ब्लाक के शेरगढ़ गांव में करीब एक करोड़ की लागत से बना विद्यालय भवन में अभी पढ़ाई शुरू नहीं हुई है। वहां पर गांव के कुछ लोग जुआ खेलते रहते हैं। कुछ ग्रामीण तो उसमें मवेशी भी बांध रहे हैं।1कुछ साल पहले शासन ने ग्रामीण क्षेत्रों में राजकीय हाईस्कूल के संचालन की योजना बनाई। चायल तहसील के शेरगढ़ में एक करोड़ की लागत से राजकीय हाईस्कूल के भवन का निर्माण शुरू कर दिया। भवन बनकर तैयार हो लेकिन वहां पर पढ़ाई नहीं शुरू हुई। चूंकि शिक्षा विभाग शिक्षकों की तैनाती नहीं कर रहे हैं और वह भवन सूना पड़ा है। ऐसे में गांव के लोगों ने उसपर कब्जा कर लिया।

स्थिति यह है कि खाली परिसर में कई ग्रामीण मवेशी बांध रहे हैं। गुरुवार को जागरण की टीम वहां पर पहुंची तो कई ग्रामीण स्कूल परिसर में जुआ की फड़ लगाए हुए मिले। अब तक लगता है कि उनसे बहुत बड़ी गलती हो गई। जिला विद्यालय निरीक्षक सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि शिक्षकों की समस्या है। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा परिषद को पत्र भेजा गया है, लेकिन अब तक दूसरे शिक्षक नहीं मिल सके है। किसी तरह शिक्षकों की व्यवस्था की जा रही है।

चायल तहसील के शेरगढ़ राजकीय विद्यालय में बंधी बकरी व विद्यालय के परिसर में जुआ खेलते युवक

विभाग शिक्षकों की तैनाती नहीं कर रहा है जिससे सूना पड़ा भवन

स्कूल में लोगों ने कर लिया कब्जा, ग्रामीण बांध रहे हैं मवेशीभी शिक्षक नहीं राजकीय विद्यालय मेंविद्यार्थियों का नामांकन, आते हैं तीननाममात्र का है राजकीय विद्यालय 1 नाममात्र का राजकीय विद्यालय का संचालन प्राथमिक विद्यालय के एक कमरे में हो रहा है। यहां उनको पढ़ाने के लिए कोई शिक्षक नहीं है। यहां तैनात रहे शिक्षक अखिलेश यादव को जून माह इलाहाबाद के लिए स्थानांतरण हो गया है। उनके तबादले के बाद राजकीय हाईस्कूल अफजलपुरवारी में तैनात शिक्षिका अर्चना गुप्ता को वहां संबद्ध कर दिया। इसके बाद से वह अवकाश पर चली गई। विद्यालय आने वाले छात्रों को प्राइमरी के शिक्षक ही समय मिलने पर उनको थोड़ा बहुत पढ़ा देते हैं।

अधिकांश छात्र नहीं आते पाठशाला

यहां पर नौवीं और 10वीं में 10-10 छात्रों के नामांकन हैं। इनमें से अधिकांश छात्र विद्यालय नहीं आते हैं। वह दूसरे विद्यालय में नामांकन के लिए प्रयास कर रहे हैं। गुरुवार को दैनिक जागरण की टीम शेरगढ़ पहुंची तो वहां नौवीं की छात्र सुधा सिंह व 10वीं के छात्र अनुभव दिवाकर और युवराज दिवाकर मिले।

सभी विद्यालय के बाहर खेल रहे थे। उनके अभिभावक भी वहां आए थे। अभिभावक महेश कुमार सिंह ने बताया कि वह अपने बच्चे का नाम विद्यालय में लिखाकर परेशान है।

Basic Shiksha Latest News, School me Padhai nahi Khel Rahe Juaa

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget