शिक्षकों व लिपिक पर फर्जीवाड़ा कर वेतन भुगतान कराने के आरोप में दर्ज होगा मुकदमा

Basic Shiksha Latest News Darz Hoga Mukadma

शिक्षकों व लिपिक पर फर्जीवाड़ा कर वेतन भुगतान कराने के आरोप में दर्ज होगा मुकदमा

जागरण संवाददाता, गोरखपुर : एडी बेसिक गोरखपुर-बस्ती मंडल ने देवरिया जनपद के सलेमपुर क्षेत्र के एक अनुदानित विद्यालय के प्रबंधक, दो सहायक अध्यापक व एक लिपिक पर कर वेतन भुगतान कराने के आरोप में एफआइआर दर्ज कराने का आदेश दिया है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी देवरिया को पत्र लिखकर एडी बेसिक ने चारो पर एफआइआर दर्ज कराने का आदेश दिया है। उनपर उच्च न्यायालय के आदेश का तथ्यगोपन करने का भी आरोप है। एडी बेसिक द्वारा जारी पत्र में आरोप है कि लघु माध्यमिक विद्यालय मडीपुर पकड़ी, धनपुरवा के प्रबंधक जनकदेव राय, सहायक अध्यापक धर्मेद्र कुमार यादव व नमन प्रजापति तथा लिपिक पंकज कुमार यादव द्वारा स्वकूटरचित अभिलेखों के आधार पर वेतन भुगतान का प्रयास किया गया। वेतन का भुगतान हुआ भी। सहायक अध्यापक धर्मेद्र कुमार यादव ने स्वयं को सहायक अध्यापक बताते हुए उच्च न्यायालय में रिट दाखिल की थी।

उच्च न्यायालय ने 8 दिसंबर 2015 को याचिका अस्वीकार कर दी थी। ऐसी दशा में वेतन भुगतान करने का कोई औचित्य नहीं है। पर, न्यायालय के आदेश को छिपाते हुए वेतन का भुगतान कराया गया है। इसके लिए संस्था के प्रबंधक व याची धर्मेद्र कुमार यादव को दोषी माना गया है। इसी प्रकार नमन प्रजापति द्वारा दाखिल रिट याचिका न्यायालय में विचाराधीन है। इस मामले में वेतन भुगतान की कार्यवाही इस याचिका में अंतिम निर्णय के बाद ही किया जाना उचित था। इस मामले में भी प्रबंधक व सहायक अध्यापक को तथ्य गोपन का दोषी माना गया। पंकज कुमार यादव ने स्वयं को लिपिक बताते हुए उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की थी। रिट के अनुसार चयन के लिए विज्ञापन 4 सितंबर 2015 को कराया गया जबकि विद्यालय के प्रबंधक ने वेतन भुगतान के लिए जारी पत्र में पंकज की नियुक्ति 13 जुलाई 2015 दर्शायी है। इस मामले में नियुक्ति विज्ञापन के पहले ही हो गई, जो पूरी तरह से फर्जी व कूटरचित है। इस मामले में भुगतान की गई राशि की वूसली भी की जाएगी। कूटरचना कर वेतन भुगतान करने के मामले में विभाग के लेखा कार्यालय पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। इस संबंध में जगदीश नारायण सिंह, सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक, गोरखपुर-बस्ती मंडल ने बताया कि देवरिया जनपद के विद्यालय में कूटरचना कर फर्जी तरीके से वेतन भुगतान कराने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में प्रबंधक, दो शिक्षकों व एक लिपिक पर एफआइआर दर्ज कराने का आदेश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, देवरिया को दिया गया है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

(cc) Some Rights Reserved. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget